Saturday, 19 December 2015

घटिया लिखूंगा आज..!!(7-Apr-2015)

( A facebook Post)

आज घटिया लिखने का मन है , इतना घटिया की 5 - 10 लोग अपनी फ्रेंड लिस्ट से हटा दें, लाइक करना तो दूर की बात.. कभी लिखा था की दो चार सौ लोग पड़के , सुनके , ताली बजाके निकल जाएँ तो क्या मज़ा..मज़ा तब है जब हम पादें और सूंघने वालों का सैलाब इकठ्ठा हो जाए... हम मूत की लकीर बना दें और वही दो देशों की सरहद बन जाए... अच्छा लिखने वाले लिखें जिंदगी पे, चाँद पे , मोहब्बत पे पर मैं छिछोरा लिखूंगा...हमेशा की तरह...
आज सुबह बचते बचाते उसी काले कुत्ते की टट्टी पे पैर फिर पड़ा जो मेरे लाख मना करने के बावजूद आज भी नॉन वेजीटेरियन है...कुत्ता कहीं का...वहां से निकला जब तो बंसी पान वाले का लड़का हर बार की तरह नाक चाट रहा था, भले ही पानवाला है पर साला मुझसे ज्यादा कमाता है..अपने एकलौते बच्चे के जुखाम का इलाज़ नहीं करवा सकता क्या?
शाम को लेट घर पहुँचो तो मेरी डायन गर्ल फ्रेंड मेरे सीने में चढ़ने को तैयार ... नज़दीक गया तो फिर किसी मर्द की बू थी उसके शरीर में..थकावट नहीं देखती बस सेक्स चाहिए उसे.. न जाने कितनो जन्मों तक भूखी थी साली.. इस सबके बाद मकान मालिक की बेरोकटोक गालियां..उल्लू का पट्ठा...अगर बीवी उसकी पैसे न वसूलने देती तो क्यों रहता मैं इस मनहूस कब्रिस्तान में...
फेसबुक खोलो तो कैंडी क्रश की रिक्वेस्ट देख के लगता है लोग अपनी मैय्या की शादी की व्यवस्था कैंडी क्रश खेल खेल के करवा रहे हैं.. एक्स गर्ल फ्रेंड ने आज ब्लाक कर दिया है जरूर नया बकरा फांस लिया होगा मुझे लूटने के बाद.. अब यार ऐसे में लखबीर सिंह लख्हा के भजन कैसे सुनु...या अलोक नाथ के संस्कारो का घंटा बजाऊं
दोस्त जब जब हमारी मरेगी तब तब हम ऐसा ही लिखेंगे जिसको रहना है रहो वरना देखो ऊपर थोडा दायीं साइड अनफ्रैंड का आप्शन मिलेगा ...
Post a Comment