Tuesday, 24 December 2013

आखिर किसने ???? ( 8/Apr/2008)

किसने  तुम्हे हक़ दिया मेरी  ज़िन्दगी से खेलने का ?
क्या हक़ है तुम्हे इतना खूबसूरत लगने का ?
क्यों मैं बार बार तुम्ही  को याद करता हूँ , तुम्ही को सोचता हूँ ?
क्यों मेरी आखें सिर्फ तुम्ही को देखना चाहती हैं ?
क्यों मेरे लब केवल तुम्हारा ही नाम लेना चाहते हैं ?
क्यों आखिर क्यों मैं ऐसा  हो गया हूँ ?


शायद कुछ चीज़ें मेरे रुबरु ही नहीं होना चाहतीं,
पर तुम एक चीज़ तो नहीं ,
तुम एक एहसास हो जिंदगी भर के लिए ,
एक एहसास जो तन बदन और साँसों तक में बस चुका है।
जब भी तुम्हे मेरे प्राणों कि आवश्यकता पड़े ,
आना और नि:संकोच मांग लेना।


अनुपम S. "श्लोक"
anupamism@gmail.com




Post a Comment