Tuesday, 31 December 2013

जान की क़ीमत...!!!!(8/Oct/2002)

वह खड़ा था फिर,
देख रहा था टुकुर टुकुर ;
मगर कुछ समझ न आया ,
न समझ सकता ही था ;
बस,बस में देखना था ,
सो देखे जा रहा था ;
मेरे से पूछा  हिचकिचाकर ;
क्या है तथा क्यों है ;
जवाब न था मेरे पास ,
मिलके तीसरे से पूछा ,
उसका हाल था हमारे जैसा ;
एकत्र ७ लोग  हो चुके थे ,
कोई कुछ नहीं जानता था ;
२० मिनट बीते , मौका आगे जाने का मिला ,
देखा "१ सितारे " ने एक भिखारी को कुचल डाला था ;
वो कहता था मुझसे गिड़गिड़ाकर ,
"बाबूजी २ रुपये दे दो , बच्चे भूखे हैं ";
पता चला "सितारा" १९ लाख देगा ,
जान की कीमत १९ लाख ????
अच्छा है , अब बच्चो का पेट भर जाएगा।


अनुपम S "श्लोक"
anupamism@gmail.com
8-Oct-2002


Post a Comment